Saturday, September 25th, 2021

दिल्ली पुलिस ने 6 आतंकियों को हथियार समेत किया गिरफ्तार

  नई दिल्ली

जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है.

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी.

इस आतंकी मॉड्यूल का खुलासा करने के लिए एजेंसी ने उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली में छापेमारी की और कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं.

पाक आधारित आतंकी मॉड्यूल के सदस्य दो पाकिस्तानियों के इशारे पर काम कर रहे थे. उनका मकसद नवरात्र और अन्य त्यौहारों पर आतंकी वारदात करना था. इनके पास आईईडी भी बरामद हुए हैं. पकड़े गए आतंकियों की उम्र 22 से 43 साल तक बताई जा रही है.

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के स्पेशल सीपी नीरज ठाकुर ने बताया कि इस आतंकी मॉड्यूल का कनेक्शन डी कंपनी से बताया जा रहा है. यह टेरर मॉड्यूल आईएसआई की सरपरस्ती में बड़ी साजिश रच रहा था. पकड़े गए 6 आतंकियों में से 2 पाकिस्तान से ट्रेनिंग लेकर वापस आएं हैं. यह दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल का मल्टी स्टेट ऑपरेशन था.

स्पेशल सीपी नीरज ठाकुर के अनुसार खुफिया एजेंसियों से इस आतंकी मॉड्यूल की जानकारी मिली थी. जांच में पता चला कि इनका नेटवर्क कई राज्यो में फैला है. महाराष्ट्र का रहने वाला एक आतंकी कोटा से गिरफ्तार किया गया है. 3 संदिग्ध आतंकियों को यूपी एटीएस की मदद से गिरफ्तार किया गया. जबकि दो संदिग्ध दिल्ली से पकड़े गए हैं. इनमें से 2 को मस्कट ले जाया गया था. फिस वहां से बोट के जरिए इन्हें पाकिस्तान ले जाया गया.

आरोपियों ने बताया कि इनके साथ 14 लोग बंगला बोलने वाले थे. वहां उन्हें एक फार्म हाउस में हथियारों की ट्रेनिंग दी गई. पता चला कि अनीस इब्राहिम एक टीम को लीड कर रहा था. उनका काम फंडिंग का था. एक आरोपी लाला पकड़ा गया है, जो अंडरवर्ल्ड का आदमी है. आतंकियों ने 2 टीम बनाई थी.

दूसरी टीम का काम इंडिया में फेस्टिवल के मौके पर देश भर में ब्लास्ट के लिए शहरों को चिन्हित करना था. स्पेशल सीपी नीरज ने आगे बताया कि उन्हें इनपुट मिला था. जिससे पता चला था कि भारत के कुछ हिस्सों में आतंकी घटना होने वाली हैं. टेक्निकल सर्विलांस के जरिये इसको कन्फर्म किया गया कि ऐसी साजिश रची जा रही है. जिन दो लोगों को पाकिस्तान ले जाया गया था, उन्हें 15 दिनों की ट्रेनिंग दी गई थी.

स्पेशल सीपी नीरज ठाकुर के अनुसार पाकिस्तान की ट्रेनिंग के बारे बहुत जानकारी मिली हैं. जिसे सेंट्रल एजेंसी के साथ भी साझा किया जाएगा. नीरज ठाकुर के मुताबिक फेस्टीवल सीजन में जगह-जगह ब्लास्ट करवाना इनकी मुख्य साजिश थी. जिसमे रामलीला और नवरात्र इनके टारगेट पर थे.

Source : Agency

आपकी राय

13 + 8 =

पाठको की राय