Saturday, September 25th, 2021

NEET 2021 : सरगना पीके सिर्फ कूरियर से भेजता है संदेश

 पटना वाराणसी 
सॉल्वर गैंग का सरगना पीके पटना का निवासी है। उसके गुर्गे बिहार, यूपी सहित अन्य राज्यों में सॉल्वर सेट करते हैं और उन्हें रुपयों का प्रलोभन देते हैं। ये लोग जरूरतमंदों को टारगेट करते हैं, ताकि वे आसानी से लालच में आ जाएं। सरगना पीके अपनी पहचान कहीं पर नहीं छोड़ता है। वह केवल कूरियर के जरिए संदेश भेजता है। पुलिस उसे ट्रेस न कर सके, इससे वह फोन से कम बात करता है। लग्जरी लाइफ भी नहीं जीता है। वह आम लोगों की तरह ट्रेन में सफर करता है, ताकि किसी को शक न हो। 


मूलरूप से खगड़िया का विकास पटना में करता है पढ़ाई: पुलिस गिरफ्तार छात्रा के मोबाइल से उसका कॉल रिकॉर्ड खंगाल रही है। मोबाइल में कई ऐसे नंबर मिले हैं, जो संदेह के घेरे में है। पुलिस कॉल रिकॉर्ड से लिंक जोड़ रही है। पीके के संबंध में वाराणसी पुलिस ने पटना पुलिस से भी संपर्क किया है। पटना की पुलिस भी पड़ताल में जुटी हुई है। पुलिस के मुताबिक पटना का पीके व खगड़िया का विकास कुमार महतो इस सॉल्वर गैंग का सरगना है। विकास कुमार मूलरूप से खगड़िया के बेला सिकड़ी का रहनेवाला है। वह पटना में रहकर पढ़ता है व प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता है। पीके से जुड़कर उसने ही बीडीएस की छात्रा जूली को हिना के स्थान पर परीक्षा देने के लिए सेट किया था।
 
अपने स्थान पर दूसरे को परीक्षा दिलाने की वजह से पुलिस हिना विश्वास पर भी शिकंजा कस सकती है। विधिक जानकारों की मानें तो इसमें हिना का भी गुनाह है। सॉल्वर का सहारा लेकर बेटी को नीट में पास कराने के एवज में सॉल्वरों को मोटी रकम देने में हिना के पिता भी साजिश में शामिल रहे हैं। ऐसे में देर सबेर इन पर भी शिकंजा कसेगा। वहीं, फर्जीवाड़े में पकड़े जाने के बाद बीएचयू प्रशासन बीडीएस की छात्रा जूली पर भी अनुशासनात्मक कार्रवाई कर सकती है।

वाराणसी के अभिषेक के साथ पकड़ा गया था अतुल वत्स 
सॉल्वर गैंग के सरगना अतुल वत्स को चार साल पूर्व दिल्ली पुलिस ने वाराणसी के अभिषेक कुमार के साथ गिरफ्तार कर तिहाड़ जेल भेजा था। जेल में कुछ माह रहने के बाद वह जमानत पर बाहर आ गया और फिर से धांधली में जुड़ गया। उसके खिलाफ बुद्धा कॉलोनी और अंशु के खिलाफ एसकेपुरी थाने में केस दर्ज है। पीके का कनेक्शन अतुल और अंशु गिरोह से जुड़ा हो सकता है।


ये सॉल्वर हैं जेल में
वर्ष 2020 अगस्त में हरियाणा पुलिस की इनपुट पर पटना पुलिस ने बोरिंग रोड स्थित एक अपार्टमेंट में दबिश देकर अतुल गिरोह के रमेश, उज्ज्वल उर्फ गजनी, सौरव सुमन, प्रशांत समेत दो अन्य को गिरफ्तार किया। गिरोह के सरगना अतुल के खिलाफ हरियाणा में एक प्रवेश परीक्षा में पेपर लीक कराने के प्रयास व महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में भी एफआइआर दर्ज है। 

सॉल्वर गैंग गैंग में होनहार छात्राओं की भी एंट्री
अंतरराज्यीय सॉल्वर गैंग में होनहार छात्राओं की भी इंट्री हो गई है। बीएचयू में बीडीएस सेकेंड ईयर की छात्रा जूली कुमारी पटना के बहादुरपुर थाना क्षेत्र के संदलपुर वैष्णवी कॉलोनी की रहने वाली है। पता चला है कि जूली के पिता मुन्ना कुमार मेहता फेरी लगाकर सब्जी बेचता है लेकिन संदलपुर वैष्णवी कॉलोनी के लोग जूली व उसके पिता मुन्ना मेहता के बारे में अनजान हैं। कोई उनके बारे में कुछ भी सटीक जानकारी नहीं दे सका। 
बहादुरपुर थाने की पुलिस भी जूली के पकड़े जाने के बारे में अनभिज्ञ है। वाराणसी पुलिस के मुताबिक पटना की जूली वाराणसी में मूल अभ्यर्थी हिना विश्वास के स्थान पर नीट की परीक्षा दे रही थी। एसएसपी पटना उपेंद्र शर्मा का कहना था कि वाराणसी पुलिस को जांच में पूरा सहयोग किया जाएगा। पीके कौन है, उसके बारे में भी जानकारी हासिल की जाएगी।

Source : Agency

आपकी राय

11 + 9 =

पाठको की राय