Friday, April 16th, 2021

महाशिवरात्रि पर बनेगा कल्याणकारी शिव योग, कोरोना के चलते आयोजन के स्वरूप पर संशय

इंदौर
शिव आराधना का महापर्व महाशिवरात्रि माघ मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर 11 मार्च गुरुवार को मनाया जाएगा। इस मौके पर कल्याणकारी शिव योग रहेगा। इसके साथ ही घनिष्ठा नक्षत्र और मकर राशि में चंद्रमा के संयोग में भोले भंडारी का अभिषेक पूजन भक्तों को मनोवांछित फल दिलाएगा। इस अवसर पर कोरोना से बचाव के उपायों के साथ शिव मंदिरों में कई आयोजन होंगे। भोले-भंडारी का अलग-अलग स्वरूपों में श्रृंगार होगा।
चतुर्दशी तिथि की शुरुआत 11 मार्च को दोपहर 02 बजकर 39 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 12 मार्च को दोपहर 3 बजे बजकर 02 मिनट तक रहेगी। महाशिवरात्रि पर्व में रात्रि की प्रधानता रहती है इसके चलते 11 मार्च को महाशिवरात्रि पर्व मनाना शास्त्र सम्मत होगा। महाशिवरात्रि का निशिथ काल 11 मार्च को रात 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 55 मिनट तक रहेगा। ज्योर्तिविद् ओम वशिष्ठ के अनुसार महाशिवरात्रि के पर्व भगवान शिव को समर्पित है। शिव भक्त महाशिवरात्रि के पर्व का वर्षभर इंतजार करते हैं। इस दिन भगवान शिव का अभिषेक और उनकी प्रिय वस्तुओं का भोग लगाने से जीवन में आने वाली कई परेशानियों से मुक्ति मिलती है। कुंवारी कन्याएं इस दिन मनचाहे वर के लिए भगवान शिव का व्रत और विशेष पूजा  

शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमितों की संख्या के चलते महाशिवरात्रि के आयोजन के स्वरूप पर संशय की स्थित बनी है। खजराना गणेश मंदिर में इस बार महाशिवरात्रि पर फरियाली खिचड़ी का वितरण नहीं होगा लेकिन परिसर में स्थित महाकालेश्वर मंदिर में भगवान का श्रृंगारकर रुद्राभिषेक किया जाएगा। साथ ही मंदिरों को फूलों से भी सजाया जाएगा। फिरोजगांधी नगर स्थित शिव मंदिर के पुजारी विनय शर्मा के मुताबिक कोरोना के चलते मंदिर में दर्शन और अन्य आयोजन के स्वरूप पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। मास्क पहनना और शारीरिक दूरी के नियम के पालन के साथ महाशिवरात्रि पर क्या व्यवस्था रहेगी इसका निर्णय महाशिवरात्रि के तीन दिन पहले बैठक कर लेंगे।

Source : Agency

आपकी राय

3 + 1 =

पाठको की राय