Tuesday, March 2nd, 2021

दहेज प्रताड़ना से तंग महिला ने की आत्महत्या

इंदौर
पति की प्रताड़ना से परेशान महिला ने इंदौर में फांसी लगा ली है। मौत से पहले महिला ने एक सुसाइड नोट लिखा है, जिसमें उसने कई मार्मिक बातें लिखी हैं। साथ ही उसने लिखा है कि 'जीते जी, वह अपनी पत्नी को खुशी और शांति नहीं दे सका, मरने के बाद उसे मेरा मुंह मत दिखाना'। मेरे पति की यहीं सजा है। सूचना मिलने पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।


दरअसल, इंदौर के एरोड्रम थाना क्षेत्र के लेक पैलेस कॉलोनी में रहने वाली कल्पना नामदेव की शादी 5 साल पहले विदिशा के नीलेश नामदेव से हुई थी। शादी के कुछ दिनों बात तक पति-पत्नी में सब कुछ ठीक चलता रहा। कुछ वर्षों बाद नीलेश दहेज की मांग को लेकर पत्नी के साथ मारपीट करने लगे। पत्नी के पिता का मकान वह अपने नाम से करने की मांग करता था। इसे लेकर विवाद इतना बढ़ गया था कि पत्नी ने दहेज का केस पति के खिलाफ किया था। दोनों का कोर्ट में तलाक को लेकर भी केस चल रहा था।

तनाव में रहती थी कल्पना
पति के साथ विवाद की वजह से कल्पना तनाव में रहती थी। विदिशा से वह इंदौर स्थित अपने मायके आ गई थी। मायके आने के बाद उसने एक सुसाइड नोट लिखा, जिसमें प्रताड़ना की कहानी है। सुसाइड नोट लिखने के बाद कल्पना ने घर में फांसी लगा लगी है। पुलिस ने घर से सुसाइड नोट जप्त कर लिया है।

सुसाइड नोट में क्या है
पत्नी ने सुसाइड नोट में लिखा है कि वह जीते जी मुझे खुशी नहीं दे पाया। मेरी मौत के बाद उसे मेरा अंतिम दर्शन नहीं करने देना। वह मुझे मुखाग्नि भी नहीं देगा। मेरी मां मुझे मुखाग्नि देगी। साथ ही उसने लिखा है कि पैसा एक इंसान से बड़ा नहीं होता है। मैं खुशी से आत्महत्या कर रही हूं। आप सब अपना ख्याल रखना और मेरे पति को अपने अंतिम दर्शन नहीं करने देने। यही उसकी सजा है।

 

Source : Agency

आपकी राय

3 + 11 =

पाठको की राय