Friday, August 7th, 2020

5 दिनों में 15,000 इकट्ठा करेंगे हेल्‍थ वर्कर्स,मंथली सीरो सर्वे शुरू

नई दिल्‍ली
देश की राजधानी में कोविड-19 के खिलाफ बेहतर नीति बन सके, उसके लिए मंथली सीरो सर्वे की शुरुआत हो चुकी है। हर महीने की 1 से 5 तारीख के बीच यह सर्वे किया जाएगा। मुख्‍यमंत्री कार्यालय के मुताबिक, अगले 5 दिनों में 15,000 सैंपल्स को इकट्ठा किया जाएगा। दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने कहा कि "पिछले सर्वे में 24% लोग पॉजिटिव आए थे। यह बहुत टेक्निकल प्रोसेस है लेकिन पूरी राजधानी में होगा।" सभी सीडीएमओ को अपने जिलों में सर्वे कराने का काम सौंपा जाएगा। इसके अलावा रैंडम लोगों का ऐंटीबॉडी के लिए टेस्‍ट किया जाएगा। मंथली सर्वे में वही प्रोटोकॉल फॉलो होगा जो नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के पहले सर्वे में किया गया था।

क्या है सीरो सर्वे या ऐंटीबॉडी टेस्‍ट?
ब्‍लड सैंपल के ऐंटीबॉडी टेस्‍ट से शरीर में ऐंटीबॉडीज का पता चलता है, जो बताती हैं कि आप वायरस के शिकार हुए थे या नहीं। ऐंटीबॉडीज दरअसल वो प्रोटीन्‍स हैं जो इन्‍फेक्‍शंस से लड़ने में मदद करती हैं। यह इन्‍फेक्‍शन के 14 दिन बाद शरीर में मिलने लगती हैं और महीनों तक ब्‍लड सीरम में रहती हैं। दिल्‍ली में पहले सीरो सर्वे के लिए पुणे के नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरॉलजी (NIV) की बनाई कोविड कवच एलिसा किट्स इस्‍तेमाल की गई थीं।

दिल्‍ली में 1.35 लाख से ज्‍यादा केस
शुक्रवार को 1,195 नए केस आने के साथ ही दिल्‍ली में कोरोना के कुल केस की संख्या 1,35,598 हो गई है। अब तक 1,20,930 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं 3,963 लोगों की मौत हुई है। यानी ऐक्टिव केसेज की संख्या 10,705 है। दिल्ली में शुक्रवार को 5,629 आरटी-पीसीआर टेस्ट तो 13,462 रैपिड ऐंटीजन टेस्ट किए गए।

'हर्ड इम्‍युनिटी पर नए केस नहीं आएंगे'
सत्येंद्र जैन ने कहा, 'सीरो सर्वे के जो नतीजे सामने आए हैं उससे पता लगता है कि दिल्ली की लगभग 25 प्रतिशत आबादी कोरोना से संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुकी है। हालांकि दिल्ली में अभी भी हर्ड इम्युनिटी डेवेलप नहीं हुई है।' जैन ने कहा "जब समुदाय में 40 से 70 प्रतिशत लोग इस बीमारी से ठीक हो तब हर्ड इम्युनिटी होती है। हर्ड इम्युनिटी बनने पर नए केस आना बंद हो जाएंगे, लेकिन अभी नए केस आ रहे हैं।"

Source : Agency

आपकी राय

6 + 8 =

पाठको की राय